IND vs SA 4th T20: राजकोट में ‘करो या मरो’ का मुकाबला, जानिए बारिश होने पर कौन लगाएगा टीम की नैया पार

Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  


Symbol Supply : TWITTER
Saurashtra Cricket Affiliation Stadium, Rajkot 

Highlights

  • भारत और साउथ अफ्रीका के बीच राजकोट में सीरीज का चौथा मैच
  • पांच टी20 मैच की सीरीज में 1-2 से पीछे टीम इंडिया
  • बारिश होने पर टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों की बढ़ेगी जिम्मेदारी

साउथ अफ्रीका के खिलाफ पांच टी20 मैचों की सीरीज में भारत तीन मैचों के बाद 1-2 से पीछे है। शुक्रवार को राजकोट में होने वाले सीरीज के चौथे मुकाबले में उसके पास जीत दर्ज कर 2-2 की बराबरी हासिल करने का मौका होगा। भारत ने विशाखापट्टनम में खेले गए पिछले मैच में प्रोटियाज को 48 रन से करारी शिकस्त दी थी। कप्तान ऋषभ पंत एंड कंपनी जीत की इस लय को कायम रखने के लिए सौराष्ट्र क्रिकेट स्टेडियम के मैदान में उतरेगी। बेशक, टीम इंडिया को मोमेंटम मिल चुका है, लेकिन राजकोट के मौसम का मिजाज से उनके इस मिशन को खतरा हो सकता है। अब सवाल ये है कि अगर बारिश होती है तो टीम इंडिया की नैय्या पार लगाने के जिम्मेदारी सबसे ज्यादा किस पर होगी?

बारिश हुई तो टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों पर जीत की बुनियाद का दारोमदार

राजकोट में मैच के दौरान बरसात होने पर टीम इंडिया के टॉप ऑर्डर बल्लेबाजों का प्रदर्शन ज्यादा अहम हो जाएगा। पहले बल्लेबाजी करने पर उन्हें तेज और बड़ा टोटल खड़ा करने पर खास जोर देना होगा। इसके लिए उन्हें कुछ रिस्क भी लेना पड़े तो उससे पीछे नहीं हटना चाहिए। साउथ अफ्रीका को मुश्किल लक्ष्य देकर वे दूसरी पारी में D/L मेथड में आगे बने रह सकते हैं। वहीं बाद में बल्लेबाजी करने पर शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों को तेजी से बैटिंग करनी होगी लेकिन विकेट बचाकर भी रखना होगा। बारिश होने पर लागू होने वाले नियम में विकेट के गिरने पर बाद में बल्लेबाजी करने वाली टीम के रन की अहमियत कम हो जाती है। लब्बोलुबाब ये कि आज अगर राजकोट में बारिश होती है तो टीम इंडिया की सलामी जोड़ी, ईशान किशन और ऋतुराज गायकवाड़ की जिम्मेदारी पिछले मुकाबलों से ज्यादा बड़ी होगी।

क्या कहता है राजकोट के मौसम का मिजाज?

भारत – साउथ अफ्रीका के बीच मैच के दौरान राजकोट के आसमान में 45 से 55 फीसदी तक बादल छाए रहेंगे। वहीं आर्द्रता 60 फीसदी तक होगी। हालांकि, बारिश की संभावना सिर्फ 25 फीसदी तक जताई गई है, लेकिन ज्यादा ह्यूमिडिटी और हवा की दिशा इस संभावना को बढ़ा भी सकती है। वैसे भी, पुरानी कहावत है कि मौसम किसी तहजीब को नहीं मानता, लिहाजा टीम इंडिया के मैनेजमेंट को राजकोट में अपनी रणनीति D/L मेथड को बनाने की जरुरत होगी। भारतीय टीम के लिए यह करो या मरो का मुकाबला है, सिर्फ एक हार से सीरीज हाथ से निकल जाएगी। ऐसे में, जरुरी है कि भारत हर परिस्थिति की तैयारी करके मैदान में उतरे।





Supply hyperlink


Spread the love
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  
  •  

Leave a Comment

Specify Facebook App ID and Secret in the Super Socializer > Social Login section in the admin panel for Facebook Login to work

Specify Google Client ID and Secret in the Super Socializer > Social Login section in the admin panel for Google Login to work

Your email address will not be published.